छत्तीसगढ़ में स्कूल बंद मगर पिछड़ें न बच्चे इसलिए गांव में पेड़ के नीचे हो रही पढ़ाई, मप्र के रीवा में एशिया का सबसे बड़ा सोलर प्लांट शुरू - A2Z News.Live -->

Breaking

Post Top Ad

SuperBrain Call 9673371785

Post Top Ad

For More Details Call On 9673371785

Search Your Story

Friday, July 10, 2020

छत्तीसगढ़ में स्कूल बंद मगर पिछड़ें न बच्चे इसलिए गांव में पेड़ के नीचे हो रही पढ़ाई, मप्र के रीवा में एशिया का सबसे बड़ा सोलर प्लांट शुरू

फोटोछत्तीसगढ़ के मुरतोंड़ा पंचायत के गोलागुड़ा की है। यहां 3 दिन से ऐसे ही सड़क पर पेड़ के नीचे बच्चों की पढ़ाई हो रही है। दरअसल, अनलॉक 2.0 में जारी गाइडलाइन के मुताबिक 31 जुलाई तक सभी स्कूल बंद रहेंगेऐसे में जिले में ऑनलाइन कक्षाओं के साथ अब शिक्षक अंदरूनी गांवों के मोहल्लों में बच्चों को छोटे-छोटे समूह में बांटकर उन्हें पेड़ के नीचे तो कहीं सड़क पर दरी व चटाई बिछाकर पढ़ाने में जुटे हैं। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना से बचाव के सभी उपाय किए जा रहे हैं।

750 मेगावॉट बिजली बनेगी, जो सबसे कम 2.97 रु. प्रति यूनिट दर से बिकेगी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रीवा में शुक्रवार को एशिया का सबसे बड़ा अल्ट्रा मेगा सोलर प्लांट देश को समर्पित किया। मोदी ने कहा- अभी तक व्हाइट टाइगर के नाम से पहचाना जाने वाले रीवा विश्व में सोलर प्लांट के लिए भी जाना जाएगा। आने वाले समय में भारत दुनियां में क्लीन एनर्जी का मॉडल बनेगा।

वहीं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कार्यक्रम से जुड़े सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मोदी ‘मैन ऑफ आइडियाज’ हैं। रीवा का यह प्रोजेक्ट सौर ऊर्जा के क्षेत्र में ‘गेम चेंजर’ होगा।2.97 रु. प्रति यूनिट की सस्ती बिजली है।750 मेगावाट की है यह सौर ऊर्जा संयंत्र परियोजना है जो1590 हेक्टेयर क्षेत्र में स्थापित है।

श्रीनगर का मुगल गार्डन खुला

फोटो श्रीनगर के मुगल गार्डन की है, जो 113 दिन बाद पर्यटकों के लिए खुल गया है। गार्डन खुलते ही यहां पर्यटक भी पहुंचने लगे हैं। हालांकि, यहां कोरोना से बचने के लिए नियमों का पालन करना जरूरी है। गार्डन घूमने के लिए मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग में रहने के आदेश दिए गए हैं।

टीशर्ट को ही बना डाला मास्क

बिहार के बक्सर जिले में शुक्रवार से तीन दिनों का लॉकडाउन शुरू हो गया। इसका सख्ती से अनुपालन कराने के लिए पुलिस भी चौकस दिखी। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने और मास्क नहीं पहनने वालों पर पुलिस की कड़ी नजर रही। चौगाई में बाइक सवार एक युवक बिना मास्क के घूमते पकड़ा गया। पुलिस ने जैसे ही उसे रोका और टोका तो डंडे से डर से उसने तुरंत टीशर्ट उतारी और उसी को मास्क बना चेहरे पर लपेट लिया। पुलिस ने उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया।

13 मुलाजिमों ने 4 घंटे में छप्पड़ से बरामद की 100 बोतलें

पंजाब के गुरदासपुर जिले के बटाला में स्पेशल स्टाफ इंचार्ज सुरिंदर व एक्साइज ठेकेदार के सर्कल इंचार्ज गुरप्रीत की अगुवाई में 13 मुलाजिमों ने गांव शामपुरा के एक छप्पड़ में शराब खोजने को करीब 4 घंटे सर्च अभियान चलाया। इस दौरान छप्पड़ से 7 कैन और 100 अवैध शराब की बोतलें बरामद की गईं। एसआई सुरिंदर ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि छप्पड़ में शराब हो सकती है। इसके बाद कारिंदे उतारे तो शराब की बोतलें बरामद हुईं। तस्कर यहां शराब को कवर कर छप्पड़ों में छिपा देते हैं और मौका पाकर तस्करी करते थे।

ओवरस्पीड वाहनों के चालान काट रही पुलिस

चंडीगढ़ में कोरोना की वजह से पुलिस ओवर स्पीड के नाके नहीं लगा रही है। इसका पुलिस ने नया रास्ता निकाल लिया है। पुलिस स्पीड रडार गन से अब पुलिस ओवरस्पीड के चालान काट रही है। फोर्स के पास तीन गन हैं और रोजाना एक गन से ओवर स्पीड के 30-35 चालान काट रही है। इन्हें रोजाना शहर में अलग अलग सड़कों पर लगाया जाता है और फिर मुलाजिम इससे चालान काटते हैं। चालान आपके घर ऑनलाइन आता है। यदि आप चालान नहीं भुगतते तो आपका वाहन कभी किसी अन्य व्यक्ति के नाम पर ट्रांसफर नहीं हो सकता।

महिधरपुर हीरा बाजार खुलते ही सोशल डिस्टेंसिंग भूले

सूरत के महिधरपुरा हीरा बाजार शुक्रवार को शुरू हुआ तो इतनी भीड़ हुई कि सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ गईं। व्यापारी एक-दूसरे से सटकर चल रहे थे। कहीं-कहीं तो बिना मास्क लगाए ही एक-दूसरे से बात कर रहे थे। इसी लापरवाही की वजह से हीरा बाजार में कोरोना के केस लगातार बढ़े और मनपा ने वराछा, कतारगाम और महिधरपुरा के हीरा बाजारों के साथ डायमंड यूनिट को भी बंद करवा दिया था। अब हीरा बाजार खोल दिए गए, लेकिन तस्वीर देख लगता है गाइडलाइंस का पालन नहीं हो रहा।

700 फीट की ऊंचाई पर तालाब बनाकर खेतों की सिंचाई कर रहे किसान

महाराष्ट्र के बीड जिले में 700 फीट ऊंचे पहाड़ पर बने ‘खेत तालाब’ से अनार और मौसम्बी के बाग फल-फूल रहे हैं। धुनकवड़ गांव के किसान कल्याण कुलकर्णी ने बताया कि यहां की ज्यादातर जमीन पहाड़ी इलाकों पर है। इसलिए फसलों की सिंचाई करने के लिए परेशानियों का सामना करना पड़ता था। इससे निजात पाने के लिए 6 लाख रुपए खर्च कर यह तालाब बनवा दिया। यह 40 फीट गहरा है। यह बरसाती पानी से भरा है। इसकी क्षमता दो करोड़ लीटर है। इससे सालभर 30 एकड़ के बगीचे की सिंचाई होती है।



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें
School closed in Chhattisgarh, but children do not fall behind, so studies are being done under the trees in the villages,


source /local/delhi-ncr/news/school-closed-in-chhattisgarh-but-children-do-not-fall-behind-so-studies-are-being-done-under-the-trees-in-the-villages-127500981.html

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad

For More Details Call On 9673371785